कविता मेरे लिए, मेरे आत्म का, शेष जीवन जगत के स‌ाथ चलनेवाला रचनात्मक स‌ंवाद है। कविता भले शब्दों में बनती हो लेकिन वह स‌ंवाद अंतत: अनुभूति के धरातल पर करती है। इसलिए प्रभाव के स्तर पर कविता चमत्कार की तरह लगती है। इसलिए वह जादू भी है। स‌ौंदर्यपरक, मानवीय, हृदयवान, विवेकशील अनुभूति का अपनत्व भरा जादू। कविता का स‌म्बन्ध मूल रूप स‌े हृदय स‌े जोड़ा जाता है, लेकिन इसका अर्थ यह नहीं स‌मझना चाहिए कि उसका बुद्धि स‌े कोई विरोध होता है। बल्कि वहाँ तो बुद्धि और हृदय का स‌ंतुलित स‌मायोजन रहता है; और उस स‌मायोजन स‌े उत्पन्न विवेकवान मानवीय उर्जा के कलात्मक श्रम और श्रृजन की प्रक्रिया में जो फूल खिलते हैं, वह है कविता ... !

गुरुवार, 23 सितंबर 2010

अच्छे दिनों की उम्मीद पर

बच्चे आखिरी उम्मीद हैं
अच्छे दिनों की

अच्छे दिनों की उम्मीद पर
बच्चे सुबह-सुबह
जा रहे हैं स्कूल

स्कूल के बाहर
एक भरा पूरा दिन
बीत गया बच्चों के इंतजार में

देर शाम
बच्चे लौट रहे हैं घर
थके-हारे ...।



2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर ब्लॉग और बहुत सुन्दर कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बच्चे आखिरी उम्मीद हैं
    अच्छे दिनों की.........बहुत सुन्दर कविता।

    उत्तर देंहटाएं